सफर ख्वाबों का........

मासूम ख्वाहिशें खुद से खुदा से

6 Posts

54 comments

नंदिनी


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

इसी का नाम ज़िंदगी

Posted On: 31 Jan, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

11 Comments

.”जब भी कहने को हुआ”

Posted On: 10 Dec, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

कभी कभी ये ज़िंदगी

Posted On: 31 Aug, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

14 Comments

हमने सुना है: मौसम के साथ-साथ

Posted On: 2 Aug, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

10 Comments

कुछ खामोश से अरमान

Posted On: 16 Jul, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

12 Comments

जब भी कहने को हुआ

Posted On: 8 Jul, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

7 Comments

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: नंदिनी नंदिनी

के द्वारा: नंदिनी नंदिनी

नंदिनी जी, आपकी पहली कविता पढ़ी बहुत अच्छी लगी थी और आज आपने अपनी दूसरी रचना से ये साबित कर दिया है कि आप यूँ ही कोई नहीं हैं बल्कि आप भावना प्रधान कवियित्री हैं| अंतस के ज्वार भाटा और उफान को आपने बहुत ही सुन्दरता के साथ शब्दों के मोतियों में पिरोया है| मैं हैरान हूँ कि आपकी किसी भी कविता को फीचर्ड क्यूँ नहीं किया गया| जागरण जंक्शन नए लेखकों/लेखिकाओं कवियों/कवियित्रियों के प्रति अपने कहे गए व्यवहार से पीछे क्यूँ हट रहा है मेरी समझ से परे है| आपकी कवितायेँ निश्चय ही फीचर्ड किये जाने लायक हैं और ये बात मैं ही नहीं कोई भी बौद्धिक ब्लॉगर कहने से चूकेगा नहीं| भविष्य के लिए शुभकामनाओं के साथ... आभार,

के द्वारा:




latest from jagran